ALL HEALTH BEAUTY INTERVIEW
सुबह की हड़बड़ी और तनाव से बचें
September 11, 2018 • Tarun Kumar Nimesh

शैली शर्मा
जिस घर में पति-पत्नी दोनों या दोनों में से एक आॅफिस जाते हों और साथ ही बच्चे भी स्कूल जाते हों, उस घर में सुबह-सुबह बहुत काम रहता है। इतनी जल्दी और हड़बड़ी रहती है कि बहुत कुछ उल्टा-पुलटा हो जाता है, कुछ चीजें छूट जाती हैं। कभी नाश्ता बनने में देर तो कभी बच्चे तैयार नहीं हो पाते और कभी कोई चीज ढूंढे नहीं मिलती। ऐसे में अक्सर मूड खराब, नोक-झोंक और घर से निकलने में देरी।
सुबह-सुबह के इस अत्यधिक ’वर्कलोड‘ का सर्वाधिक शिकार गृहस्वामिनी को होना पड़ता है। काम भी अधिकतर वही करती है, फिर भी उसी में कमियां ढूंढी जाती हैं। जो महिलाएं सूझ-बूझ से काम लेती हैं, उनके घर में सुबह प्रायः शांति से सब कुछ सम्पन्न हो जाता है। आप भी ऐसा कर सकती हैं। करना सिर्फ इतना है कि सुबह के कुछ काम रात को ही करके रख दें।
िसात वर्ष तक के बच्चे प्रायः स्वयं तैयार नहीं होते। वे दिन में अपनी स्कूल की चीजें मसलन काॅपी-किताबें, पेन, पेंसिल, पेंसिल कटर आदि इधर उधर रखकर भूल जाते हैं। आप रात को सोने से पहले उनका एक-एक सामान जांच लें अर्थात बस्ता पूर्ण करके रख दें। सुबह बस्ते की चीजें ढूंढने में लगने वाला वक्त बचेगा और कोई तनाव भी नहीं होगा।
िबच्चे का टिफिन धोकर रात को यथास्थान रखें। सुबह कौन सी ड्रेस पहनकर जाना है, उस डेªस को भी ’कंपलीट‘ करके रखें।
ि‘सुबह की सुबह देखेंगे‘ यह मानसिकता छोड़ दें। सुबह जल्दबाजी और हड़बड़ी में कुछ काम छूट सकते हैं। समय पर कुछ चीजें याद नहीं आती। सुबह क्या बनना है, सोने से पहले ही तय कर लें और नोट करके रख लें।
िसुबह के कुछ काम पति से भी कराएं जैसे बच्चे को नहलाना और तैयार करना आदि।
ियदि सुबह दाल, चावल इत्यादि बनाने हैं तो रात को ही बीन कर रख दें।
िअगर सुबह आलू से कुछ बनाना है तो रात को उबालकर रख दें।
िरात को सोने और प्रातः जागने का समय निर्धारित करें। प्रातः सर्वाधिक काम खराब होते हैं देर से उठने के कारण। यह तय करें कि नाश्ते और लंच का सामान बनाने, नहाने-खाने और तैयार होने में कितना समय लगता है। जितना समय लगता है उससे थोड़ा और ज्यादा पहले उठें। यदि आपका सुबह घर में काम तीन घंटे का है और आपको नौ बजे घर से निकलना हो तो साढ़े पांच बजे उठें ताकि सारे काम तसल्लीबख्श और समय पर हो जाएं।
िसुबह का मैन्यू रात को तय कर तदनुरूप कुछ तैयारी कर लें जैसे आटा गूंथ कर और सब्जी काटकर रात को ही फ्रिज में रख दें। सुबह ब्रेड नाश्ते में लेनी हो तो शाम को ही खरीद कर फ्रिज में रख दें।
िबच्चे के जूते पालिश वाले हों और कपड़ों पर प्रेस होनी हो तो सुबह हो जाएगी वाले ढर्रे को छोड़ यह काम रात को ही कर लें।
िप्रयास करें कि बच्चा अपना होमवर्क रात को पूरा कर ले। न कर पाए तो आप उसकी मदद करें। अगर बकाया होमवर्क सुबह पर छोड़ दिया तो संभव है कि होमवर्क पूरा न हो पाए और होमवर्क पूरा भी हुआ तो किसी और काम के खराब होने का खतरा है।
िबच्चे के अतिरिक्त पति-पत्नी की अपनी भी तैयारी होनी चाहिए। पर्स, बैग व्यवस्थित हो, बिजली या टेलीफोन बिल कल जमा करना हो तो पर्स-बैग में रख लें। अपनी-अपनी पोशाकें ठीक कर लें आदि।
िप्रातः सिर्फ व्यायाम/मार्निंग वाक, स्नान, खाना बनाना, पेपर पढ़ना और तैयार होकर चल पड़ना जैसे काम ही हांे। फालतू के काम जैसे पोंछा लगाना रात को भी हो सकते हैं। सुबह काम कम होंगे तो आराम से निपट जाएंगे और दिन भी अच्छा कटेगा।