ALL HEALTH BEAUTY INTERVIEW
शादी होने या माँ बनने के बाद जिंदगी खत्म नहीं होती : चीना सहगल ढींगरा
December 6, 2018 • Tarun Kumar Nimesh

शादी होने या माँ बनने के बाद जिंदगी खत्म नहीं होती : चीना सहगल ढींगरा

कहते हैं हुस्न, इश्क और हूनर छुपाए नहीं छुपते हैं, वक्त-बेवक्त अपना ये करिश्मा दिखा ही जाते हैं, कुछ ऐसा ही हुआ है, बला की खूबसूरत और मोस्ट टैलेंटड वूमन चीना सहगल ढींगरा के साथ। जिन्होंने साबित कर दिया कि शादी होने या मां बनने के बाद लड़कियों की लाइफ खत्म नहीं हो जाती है। आपको बता दें कि मूल रूप से दिल्ली निवासी चीना सहगल ढींगरा ने मिसेज इंडिया यूनिवर्स 2017-2018 प्रतियोगिता में मिसेज इंडिया यूनिवर्स इंटरनेशनल 2017-2018 का खिताब अपने नाम किया है। यह 3 साल से शादी शुदा है और इस वक्त अपने पति और सास के साथ दिल्ली में रहती हैं। चीना सहगल ढींगरा के पति नितिन ढींगरा आईटी कंपनी में उच्च पद पर कार्यरत हैं। अपने परिवार को अपनी ताकत मानने वाली चीना सहगल ढींगरा ने 'आपकी सेहत' के उपसंपादक अनिल अरोड़ा जी से एक्सक्लूसिव बातचीत की। पेश हैं उनसे हुए बातचीत के कुछ अंश :-

"मिसेज इन्डिया यूनिवर्स इंटरनेशनल 2017" के रूप में अपनी उपलब्धि पर आप कैसा महसूस कर रही हैं?
मैं बहुत खुशी महसूस करती हूं और "मिसेज इन्डिया यूनिवर्स इंटरनेशनल 2017" का खिताब जीतना एक सपना सच होने जैसा लगता है। मुझे नहीं लगता कि इस से बेहतर कुछ भी हो सकता था। मुझे सच में विश्वास है कि भाग्य हर किसी के लिए अच्छी योजना बनाता है ।


चीना जी आपको आपकी अब तक के शानदार सफर की बधाई। इस मुकाम तक पहुंचने का श्रेय आप किसे देती हैं?
बहुत, बहुत शुक्रिया आपका। मेरी सफलता के पीछे जितनी मेरी मेहनत है, उससे कहीं ज्यादा मेरे परिवार और मेरे पति का सपोर्ट है, जिनके बिना मैं कभी कुछ नहीं कर सकती थी। मेरा परिवार मेरी ताकत है और मेरे पति मेरी शक्ति।


"मिसेज इण्डिया यूनिवर्स इंटरनेशनल 2017" के बारे में कुछ बताए।
मिसेज इन्डिया यूनिवर्स इंटरनेशनल 2017 के पेजेंट का नाम मिसेज इन्डिया यूनिवर्स इंटरनेशनल 2017 इसके आयोजक थे श्रीमती अर्चना तोमर और श्री तुषार धालीवाल। इसके आॅडिशन आयोजित हुए: आॅडिशन दिल्ली में 9 सितंबर को हुई। मैं एक फाइनलिस्ट के रूप में चुनी गई थी। इसका फिनाले ग्रूमिंग सेशन और फिनाले के लिए स्थल था होटल, महल मेवाड़, उदयपुर। खूबसूरत पहाड़ियों से घिरे एक धरोहर संपत्ति। भारत, ब्रिटेन, सिंगापुर, हांगकांग और दुबई से दो अलग-अलग श्रेणियों में 42 प्रतियोगी थे। ग्रूमिंग सेशन 22 अक्टूबर से शुरू हुआ था और हमने 7 दिनों तक ग्रूमिंग की थी। समापन 27 अक्टूबर को हुआ।


आप अपने व्यक्तित्व का वर्णन कैसे करेंगी?
मैं एक आशावादी, स्नेही, रचनात्मक, सकारात्मक और एक बहादुर दिल की लड़की हूं। मैं चीजों को सकारात्मक तरीके से देखती हूं, यह सोचकर कि गिलास आधा खाली होने के बजाय आधा-भरा है । मैं पर्सनली सिम्पलीसिटी में बिलीव करती हूं।

आपके परिवार के बारे में कुछ बताए।
मैं दिल्ली में पैदा हुई। मजबूत मूल्यों और सिद्धांतों के साथ एक सुंदर पंजाबी परिवार में जन्मी. मैं जनवरी, 2015 में शादीशुदा हूं। मैं बहुत पढ़े-लिखे परिवार से हूं। मेरे पिता का नाम श्री आर.एल.सहगल है जो हुडको से डिप्टी जनरल मैनेजर के रूप में रिटायर हुए। वो एक इकोनॉमिस्ट भी है। मेरी माता जी श्रीमती नीलम सहगल भी एक टीचर रह चुकी है। मेरे पति का नाम श्री नितिन ढींगरा है वे नेटवर्क इंजिनियर है, एरिसेंट टेक्नोलॉजीज, सिस्को गुड़गांव में।


चीना ब्यूटी के क्षेत्र में आगे बढ़ने की बात आपने कैसे सोची?
मैंने अपनी नौकरी छोड़ दी क्योंकि मैं अपने सपनों को आगे बढ़ाना चाहती थी। मैं ब्यूटी क्वीन और मॉडल बनना चाहती थी। न सिर्फ बाहरी सुंदरता के साथ एक सौंदर्य रानी लेकिन, अंदर से बराबर सौंदर्य। यह अपने आप के लिए एक निर्णय था। भगवान की कृपा से मेरे पास बहुत सपोर्टिव पति श्री नितिन ढींगरा और एक सहायक परिवार है। उन्होंने मेरे निर्णय में मेरा साथ दिया। मैंने डेढ़ साल भर पहले फेसबुकपर मिसेज नार्थ इंडिया सौंदर्य प्रतियोगिता के बारे में एड देखा, तो मुझे लगा कि ट्राई करना चाहिए और मैंने किया लेकिन तब मैंने बिल्कुल नहीं सोचा था कि मैं इतनी आगे बढ़ जाऊंगी, मैं बहुत खुश हूं।


अपने सपने को पूरा करने की दिशा में खुद को कैसे तैयार करें?
सबसे पहले, आप अपने आपसे ईमानदार होना चाहिए। आप अपने आप से पूछे कि तुम क्या चाहते हो । और फिर सिर्फ अपने सपनों को प्राप्त करने की दिशा में चलना शुरू कर दो।


आप के अनुसार सौंदर्य प्रतियोगिता के क्षेत्र में जितने के लिए प्रमुख लक्षण क्या हैं?
1. फोकस, 2. अनुशासन, 3. खुद में विश्वास, 4. जीतने की मनोवृत्ति, 5. उचित व्यायाम और प्रोपर डाइट


मिसेज इंडिया यूनिवर्स के दौरान चुनौतियां क्या रही?
सबसे बड़ी चुनौती दुनिया के विभिन्न भागों से 42 प्रतियोगियों के साथ कंपीट करना रहा है।

एक कथन जो आपको प्रोत्साहित करता है?
"अपने आप में विश्वास करो और आप अविश्वसनीय काम कर सकते हैं".

यदि आप महिलाओं के लिए एक संदेश देना चाहे, क्या होगा?
भारत की हर महिला और दुनिया भर में मेरा संदेश अपने सपनों में विश्वास करना, अपनी पहचान बनाने और खुद से प्यार करने की दिशा में काम करना होगा।

यदि आप दुनिया के लिए एक संदेश दे, तो यह क्या होगा?
मेरा संदेश अपने सपनों को जीए और उन्हें सच करने का साहस अपने अंदर रखे।

आप अपने खाली समय में क्या करना पसंद करती है?
मैं बहुत क्रिएटिव हूं। अपने खाली समय में पेंटिंग और आर्ट एंड क्राफ्ट से जुड़ी चीजें करना मुझे बहुत पसंद है। साथ ही गरीब बच्चो और महिलाओ को भी क्राफ्ट सिखाती हूं। शिक्षा को बढ़ावा देकर समाज में योगदान देना चाहूंगी। अशिक्षा हमारे समाज में जनसंख्या, बेरोजगारी, अपराध आदि सहित सभी बुराइयों के लिए मूल कारण है । इस दुष्चक्र को तोड़ने के लिए शिक्षा को बढ़ावा देना होगा । मुझे विश्वास है कि हमारे देश का भविष्य इन जवानों के हाथ में है । एक नागरिक के रूप में यह हमारी जिम्मेदारी है कि वह बच्चों को शिक्षा प्रदान करे । उसी समय मैं महिलाओं को समझाना चाहूंगा कि सीखने की कोई उम्र नहीं होती ।


मेरे जीवन में मैंने सीखा है कि ' जब हम अपने दिलों का अनुसरण करते हैं तो जादू होता है।