ALL HEALTH BEAUTY INTERVIEW
रसोईघर को व्यवस्थित रखें
November 29, 2018 • Tarun Kumar Nimesh

रसोईघर को व्यवस्थित रखें

रसोईघर देखने में तो छोटा सा होता है परंतु उसमें इतना काम का सामान समाया होता है जिसकी कल्पना गृहणियां आराम से कर सकती हैं। वैसे तो आधुनिक रसोईघर अधिकतर खड़े हो कर काम करने वाले होते हैं। उनमें जो टाइलें दीवार पर लगी होती हैं, उन्हें प्रत्येक समय खाना बनाने के बाद एक नर्म कपड़े से साफ करना चाहिए। यदि रसोईघर में केबिनेट बने हों तो उन्हें भी सप्ताह में एक बार सर्फ घुले हल्के गरम पानी से स्पंज की मदद से साफ करें।

जहां बर्तनों का स्टैण्ड है, उसे भी सप्ताह में एक बार सभी बर्तन निकाल कर पुरानी जुराब से धो लें। सूखने पर उसमें बर्तन पोंछकर लगा दें। शैल्फ पर जहां गैसस्टोव रखा है, उसे दिन में कम से कम दो बार साफ करें। गैसस्टोव को भी गीले नरम कपड़े से साफ करें पर ध्यान रखें कि पानी बर्नर पर न गिरे। बर्नर गीला होने पर अगली बार काम में लाने पर पूरी तरह से खुलकर काम नहीं करेगा। उसके कुछ छिद्र बंद हो जायेंगे जिससे काम करने में अड़चन आ सकती है।

माह में एक बार केबिनेट के अंदर रखी दालें व मसाले बाहर निकालकर उनके कागज बदलें और नीचे लक्ष्मण रेखा लगा दें। जिन डिब्बों में दालें, मसाले खत्म होने वाले हैं या खत्म हैं, उन डिब्बों को धोकर व पोंछ कर रखें जिससे सामान आने पर उन्हें आसानी से प्रयोग किया जा सके। कोशिश करें कि दालों और मसालों के डिब्बे पारदर्शी हों जिससे उनके अन्दर क्या है, यह बाहर से ही पता चल जाये और उनकी मात्रा कितनी शेष है, उसकी भी जानकारी मिलती रहे। जब आटे, चावल, चीनी के ड्रम खाली होने वाले हों तो उन्हें धोकर सुखाकर, धूप लगवायें, फिर उनमें सामग्री डालें। उन पर बाहर लक्ष्मण रेखा से कुछ रेखाएं खींच दें तो उनमें कीड़े काकरोच नहीं जा पायेंगे।

चावल और आटे का ड्रम अलग कोनों पर रखें। चावल और आटा साथ-साथ रखने पर दोनों में घुन जल्दी आ जायेंगे। गैसस्टोव के नीचे भी प्रतिदिन सफाई रखें क्योंकि खाना बनाते समय कुछ तरल पदार्थ गिर जाते हैं जो एक दाग के रूप में भद्दे दिखाई देते हैं और कोई मीठा तरल गिर जाये तो चीटियों के ढेर लग जायेंगे। बर्तनों को सुविधानुसार शैल्फों पर लगाएं। कांच के बर्तन कुछ ऊंचाई पर खुली जगह रखें जिससे वे एक दूसरे से टकराकर टूट न जायें।

सबसे महत्त्वपूर्ण वस्तु फ्रिज का भी उचित ध्यान रखें। आजकल अधिकतर फ्रिज आटोमेटिक डीफ्रास्ट होते हैं। फिर भी सप्ताह में एक बार बर्फ पिघलने पर अन्दर रखी चीजें ढक कर रखें और जो फालतू पानी गिरे, उसे पोंछ दंे। दो सप्ताह में एक बार फ्रिज का मुख्य स्विच बंद करके फ्रिज का पूरा सामान बाहर निकाल कर सब्जी, फल रखने की टोकरी धोकर सुखा लें। बाकी फ्रिज गीले कपड़े से पोंछ कर फिर सूखे कपड़े से सुखा लें। पुनः सामान रखकर स्विच चला दें। दालों और मसालों के डिब्बों की सफाई करते समय जो वस्तु बहुत पुरानी हो जाये या किसी दाल में कीड़ा लग जाये, उसे फेंक दें।


बर्तनों, मसालों, दालों, खाने की वस्तुओं को बहुत ऊंचाई पर न रखें, न ही बहुत नीचे रखें। सुविधानुसार हाथ जहां आसानी से बिना अटके पहुंचें, वहीं यथा स्थान रखें। मोमबत्ती के अतिरिक्त माचिस एक निश्चित स्थान पर रखें। जो क्राकरी कम प्रयोग होती हो, उसे किसी डिब्बे में बंद रख सकते हैं। आवश्यकतानुसार उन्हें निकाल कर प्रयोग कर सकती है। पुनः धोकर, पोंछ कर संभाल दें। इस प्रकार महिलाएं जहां पर खाना बनाते हुए अपना काफी समय बिताती हैं, उन्हें उस जगह से कुछ प्यार भी हो जाता है। अपने प्यारे स्थान को साफ-सुथरा रखना भी उनका कर्तव्य बन जाता है। यदि जगह साफ-सुथरी होगी तो काम करने में मजा आता है। थोड़ा ध्यान देने पर हम अपना रसोईघर साफ रख सकते हैं।