ALL HEALTH BEAUTY INTERVIEW
महिलाओं की मुसीबत बनी बीमारियां
November 29, 2018 • Tarun Kumar Nimesh

महिलाओं की मुसीबत बनी बीमारियां

जो जीव इस धरा पर आया है उसकी एक न एक दिन मृत्यु निश्चित है चाहे वह बीमारी से मरे या किसी आपदा से। मृत्यु सबसे बड़ा सत्य है। यह कटु व अकाट्य है। इसे टाला नहीं जा सकता किन्तु बीमारी और आपदा से कुछ सीमा तक बचा जा सकता है।

स्त्री और पुरूष दो रूप हैं। इनमें से स्त्री को अपनी नारीगत शारीरिक संरचना के कारण कुछ बीमारियां अधिक होती हैं। कुछ ऐसे गंभीर रोग हंै जो औरतों की ज्यादा परेशान करते हैं जो इन्हें पुरूषों की तुलना में 15 से 20 प्रतिशत अधिक होने की संभावना रहती है। इन बीमारियों के लक्षणों को जान समझकर नारी कुछ सीमा तक इनसे बची रह सकती है।

इन्हें कैंसर, हड्डी रोग, हृदय रोग, गर्भाशय रोग, शुगर, टी.बी. होने की आशंका पुरूषों की तुलना में 12 से 20 प्रतिशत अधिक रहती है। प्राथमिक चरण में इन बीमारियों का पता चल जाने पर इन्हें नियंत्रित किया जा सकता है और त्रासद स्थिति से कुछ सीमा तक बचा जा सकता है। वर्तमान समय में बीमारियां अधिक हंै, उनके कारण अधिक हैं, उनकी जटिलताएं अधिक हंै, फिर भी सबका दवा द्वारा उपचार संभव है।

कैंसर:-

महिलाओं को ब्रेस्ट कैंसर, सर्वाइकल कैंसर, हेड एण्ड नेक कैंसर तथा वल्वर कैंसर होने की आशंका ज्यादा रहती है। ब्रेस्ट कैंसर स्तन की कोशिकाओं में होता है। ये अनियंत्रित तरीके से बढ़ती है। इसमें स्तन या बगल में गांठ पड़ती है। इससे स्तन की त्वचा के आकार प्रकार में बदलाव आता है। इसमें स्तन की कोशिकाएं असामान्य रूप से बढ़ती एवं गांठ, ट्यूमर बनाती हंै जो कैंसर का रूप ले लेती है। इससे बचने के लिए वजन नियंत्रित रखें। शराब नहीं पिएं। अपने बच्चे को स्तनपान कराएं। निष्क्रिय जीवन की बजाय लगातार सक्रिय रहें।

सर्वाइकल कैंसर गर्भाशय के नीचे वाले भाग गर्भाशय ग्रीवा में घातक कोशिकाओं की वृद्धि होती है। इसमें कैंसर की स्थिति में रजोनिवृत्ति के बाद भी खून बहता रहता हैं। यह लम्बे समय तक गर्भ निरोधक गोली खाने एवं वायरस संक्रमण के कारण होता है। बचाव के लिए गर्भ निरोधक गोली खाने से बचें। एच.पी.वी. वैक्सीन लें। पैप स्मीयर टेस्ट कराएं। इससे दुनियां में प्रति वर्ष पौने तीन लाख महिलाएं मरती हैं जिनमें से 27 प्रतिशत मौतें भारत में होती हैं। भारत में प्रतिवर्ष 1.32 लाख महिलाओं को इस बीमारी का पता चलता है। प्रारंभिक जांच से पता चल जाने पर निदान हो जाता है।

हेड एंड नेक कैंसर में मुंह, नाक, लार, ग्रं्रंथि, गले व कंठ में कैंसर होता है। इनमें गांठ या घाव हो जाता है जो ठीक नहीं होता। इससे आवाज बदल जाती है एवं कुछ भी निगलने में असुविधा होती है। यह शराब व तंबाकू सेवन के कारण होता है। इससे बचने के लिए दांतों का परीक्षण कराते रहना चाहिए। एच.पी. वी. टीका लगवाना चाहिए।

वल्वर कैंसर महिलाओं के जननांग के बाहरी भाग में होता है। इससे पेशाब में जलन एवं खुजली होती है। खून निकलता है। किडनी, ट्रांसप्लांट, यौन बीमारियों या एच.पी.वी. से पीड़ित महिलाओं में होने की संभावना अधिक रहती है। बचाव के लिए एच.पी.वी. टीका लगवाएं।

हड्डी रोग:-

महिलाओं को खानपान में पौष्टिकता की कमी एवं नारी शरीर के कारण मेनोपाज के उपरान्त हड्डियों से संबंधित परेशानियां होती हंै। उन्हें आस्टियोपोरोसिस की बीमारी हो जाती है जिससे उनकी हड्डियां बहुत कमजोर होकर टूटने लगती हैं जिससे तेज दर्द होता है। हड्डियां दुर्बल रहती हैं। शराब एवं सिगरेट पीने वाली महिलाओं को यह बीमारी होने की संभावना ज्यादा रहती है। अपरिपक्व मेनोपाज के कारण भी यह होता है। इससे बचाव के लिए कैल्शियम वाली एवं पौष्टिक चीजें खाएं। नशापान न करें। वजन नियंत्रित रखें।