ALL HEALTH BEAUTY INTERVIEW
पेट भर जाने के बाद
February 24, 2019 • Tanya Nimesh


भोजनोपरांत कुछ चीजों का खाना सेहत के लिए फायदेमंद होता है तो कुछ का सेवन स्वास्थ्य के लिए हानिकारक होता है। जैसे भोजन के बाद थोड़ा सा गुड़ का सेवन खाना पचाने में मददगार होता है। खाने के पश्चात् सौंफ, इलायची व मिश्री का सेवन भी सेहत के लिए मददगार होता है। आइये देखें भोजन के पश्चात क्या खाएं और क्या न खाएं, क्या करें और क्या न करें।

कुछ लोगों को भोजन के पश्चात् स्वीट डिश के रूप मंे फल खाने की आदत होती है। भोजन के तुरंत बाद फलों के सेवन करने से पेट में वायु बनती है जिससे पेट फूले हुए गुब्बारे की तरह महसूस होता है और असुविधा महसूस होती है। फल को भोजन खाने से एक घंटा पूर्व या दो घंटे बाद में लेना चाहिए।

पानी न पिएं:-
चाय की पत्ती में अम्ल की मात्रा अधिक होती है जिससे भोजन में उपस्थित प्रोटीन सख्त हो जाता है और उसका पाचन कठिन हो जाता है, अतः भोजन के पश्चात् चाय का सेवन कदापि न करें।

ठंडा पानी न पिएं:-
वैसे तो भोजन के उपरांत पानी पीना स्वास्थ्य के लिए हानिकारक है पर आवश्कता पड़ने पर बीच में थोड़ा रूम तापमान वाला पानी पी सकते हैं। ठंडा पानी तो बिल्कुल नहीं पीना चाहिए क्योंकि खाना खाने के बाद शरीर का तापमान अधिक होता है। यदि हम ठंडा पानी पिएंगे तो वह हमारे स्वास्थ्य को नुकसान पहुचाएंगा । शरीर के लिए वैसे गुनगुना या गर्म पानी ही लाभप्रद होता है। इससे हमारे शरीर के बुरे टाक्सिन पेशाब के जरिये बाहर निकल जाते हंै और हमें जाने अनजाने कितनी बीमारियों से दूर रखते हैं।

धूम्रपान न करंें:-
बहुत से लोग खाना खत्म करने के तुरंत पश्चात् सिगरेट सुलगा लेते हैं। खाना खाने के तुरत बाद धूम्रपान करना भी सेहत को खराब करता है। अध्ययन कर्ताओं के अनुसार खाने के बाद एक सिगरेट दिन भर की 10 सिगरेट लेने के बराबर नुकसान पहुंचाती है इसलिए खाने के बाद धूम्रपान न करें।

खाने के तुरंत बाद सोना नहीं चाहिए:-
खाना खाने के तुरंत बाद सोने से खाना सही ढंग से नहीं पचता। तुरंत सोने से गैस्ट्रिक समस्या पैदा होती है। रात्रि भोजन और सोने के बीच दो से तीन घंटे का अंतराल होना जरूरी है। दिन के खाने के बाद थोड़ी सी झपकी सेहत के लिए अच्छी मानी जाती है।

खाने के बाद स्नान न करें:-
खाने के तुरंत बाद स्नान करने से टांगों, हाथों और शरीर मंे खून का प्रवाह बढ़ जाता है। इससे पेट के आसपास खून का प्रवाह कमजोर पड़ जाता है जो हमारे स्वास्थ्य और पाचनतंत्र को हानि पहुंचाता है।