ALL HEALTH BEAUTY INTERVIEW
दूर कीजिए कील-मुंहासों की परेशानी
February 3, 2019 • Tanya


अक्सर महिलाओं की एक ही शिकायत रहती है कि कील-मुंहासों के कारण उनका चेहरा कुरूप लगता है लेकिन इसके लिए वे खुद ही जिम्मेदार हैं। छोटी-छोटी लापरवाही बरतने के कारण ही उन्हें इस तरह की समस्याओं से जूझना पड़ता है। इन समस्याओं का मुख्य कारण त्वचा का तैलीय होना, त्वचा का सही ढंग से सफाई न करना, भोजन की प्रक्रिया में खराबी होना एवं भोजन में अधिक वसा एवं तेल लेना है।

इस किस्म की शिकायत होने पर सबसे पहले किसी सुयोग्य डाॅक्टर से इस बारे में राय लेनी चाहिये। यदि आपकी त्वचा तैलीय है तो इसका उपचार आप घर बैठे भी कर सकती हैं और तैलीय त्वचा से छुटकारा पा सकती हैं। जब हम खुले छिद्रों, कीलों और मुंहासों के बारे में चर्चा करते हैं तो हमारे लिए सबसे पहले यह जानना आवश्यक है कि आखिर यह खुले छिद्र, कील एवं मुंहासे हैं क्या?

खुले छिद्रः- चेहरे पर दिन रात मेकअप लगे रहने के कारण त्वचा के छिद्र चैड़े हो जाते हैं, इसलिए हमेशा सोने से पहले मेकअप को हटा दें तथा चेहरे को दो या तीन बार पानी से धोयें। मेकअप हटाने से त्वचा के छिद्र साफ होने के कारण ताजी हवा ग्रहण कर सकते हैं जो आपके दिन रात की थकान को भी मिटाती है। अधिकांश महिलाएं टेलकम पाउडर और फेस पाउडर इस्तेमाल करती हैं और इससे भी छिद्रों की समस्या उत्पन्न होती है। इसलिए फेस पाउडर या टेलकम पाउडर का इस्तेमाल बहुत कम करना चाहिये।

आप अपने चेहरे पर लगाने के लिए फेस पैक स्वयं तैयार करें जो आपके चेहरे के लिए काफी लाभदायक साबित होगा तथा चेहरे पर होने वाली सभी बीमारियों से आप छुटकारा पा सकती हैं। टमाटर के रस और मुलतानी मिट्टी से बना पेस्ट छिद्रों को साफ करने वाला सबसे उत्तम पेस्ट साबित होगा।

पिसी फिटकरी, गुलाबजल और अंडे की सफेदी को मिलाकर बनाया गया पेस्ट भी खुले छिद्रों को बंद करने में काफी सहायक होता है।

बराबर मात्रा में पानी और सिरके को मिलाकर चेहरे पर मलें। इससे खुले छिद्र बंद होते हैं। साथ ही साथ यह त्वचा को तरोताज़ा भी बनाता है।

दूध को सबसे अच्छा एस्ंिट्रजेंट माना गया है। दूध से क्रीम निकाल कर करीब 5 मिनट तक रात में सोने के समय चेहरे पर मलें। यह चेहरे की सफाई के साथ-साथ खुले छिद्रों को भी बंद कर देता है।

मुंहासों से कैसे बचा जा सकता है:- मुंहासे अक्सर ही मानसिक तनाव, पेट की गड़बड़ी और बालों में रूसी के वजह से निकलते हैं। कई बार धूल जम जाने और सफाई नहीं होने के कारण भी त्वचा के छिद्र में गंदगी फंस जाती है जो मुंहासे के रूप में बाहर आते हैं। इसलिए चेहरे को साफ रखना अत्यंत आवश्यक है।

यदि मुंहासे तैलीय त्वचा के कारण निकल रहे हैं तो एक बड़ा चम्मच मसूर की दाल, 1/2 चम्मच सरसों के बीज और 2-3 बादाम को एक साथ बारीक पीस कर उसमें नींबू का रस मिला लें। इस पेस्ट को चेहरे पर लगाकर सूखने दें। एक बात का ध्यान रहे कि इसके इस्तेमाल से आप को जलन होगी तथा आंखों से पानी निकलेगा लेकिन घबराने की कोई बात नहीं है। जिन युवतियों को बहुत अधिक मुंहासे निकलते हैं उनके लिए यह पेस्ट अत्यंत कारगर है। इस पेस्ट को दिन में एक या दो बार चेहरे पर लगाएं। लगातार छः महीने तक इसके इस्तेमाल से चेहरे के दाग एवं धब्बे भी गायब हो जायेंगे।

दही में चोकर मिलायें और चेहरे पर लगाएं। फेस पैक बनाने का यह सबसे आसान तरीका है।

पान की जड़ को पीस लें और पानी में मिलाकर चेहरे पर लगाएं। पान की जड़ किसी परचून की दुकान पर आसानी से मिल जाती है। यदि आप मुंहासे की गंभीर समस्या से परेशान हैं तो इस फेस पैक का इस्तेमाल अवश्य करें। इस प्रक्रिया में कम से कम सात आठ दिन लग जाते हैं और चेहरा सूज जाता है लेकिन कुछ दिन बाद सूजन उतर जाती है। तब पुरानी त्वचा अपने आप उतरने लगती है। ऐसी स्थिति में आप स्वयं इसे उतारने की कोशिश न करें बल्कि इसे अपने आप उतरने दें।

चेहरे की त्वचा को सुन्दर, स्वस्थ एवं चमकदार बनाए रखने के लिए कुछ बातें हमेशा याद रखें। गंदी अंगुलियों से कभी भी त्वचा को न खुजलाएं। अपने चेहरे को छूने से पहले हाथों को अच्छी तरह धो लें। अंगुलियों की बजाय साफ-सुथरी रूई का इस्तेमाल करना बेहतर होगा। यह हमारे शरीर का सबसे ज्यादा नाजुक अंग है, इसलिए इसे छूने से पहले लापरवाही नहीं बरतें। आपकी जरा सी लापरवाही जीवन भर की परेशानी बन सकती है। चेहरे पर रगड़ने से सारे चेहरे पर संक्रमण फैल जाता है और मांसपेशियां भी ढीली पड़ जाती हैं।

चेहरे पर फेस पैक लगाते समय तौलिये का इस्तेमाल करते समय या मालिश करते समय हमेशा अंगुलियां नीचे से ऊपर की ओर ले जाएं। चेहरे पर इस्तेमाल किये जाने वाले प्रत्येक उपकरण को इस्तेमाल करने से पहले डिटाॅल से अवश्य धोयें। इन नियमों का पालन कर आप भी अपने त्वचा को सुन्दर चमकीला एवं स्वस्थ बना सकती हैं।

प्रायः मुंहासे पेट की खराबी अथवा कब्ज के कारण होते हैं अतः पेट की नियमित रूप से सफाई रखें। कब्ज निवारण हेतु अच्छे ईसबगोल का प्रयोग करें। पपीते का नित्य प्रति सेवन करने से पेट की खराबियों को दूर रखा जा सकता है।

संतरे का छिलका 100 ग्राम छाया में सुखाकर पीस लें। इसी के समान अनुपात में बाजरे का आटा तथा 12 ग्राम हल्दी कुछ पानी में आटे की भांति गूंथकर मुंह पर मलें। पांच मिनट के पश्चात चेहरा धो लें। रोजाना लगभग 10 मिनट तक चेहरे को गर्म पानी की भाप दें, फिर ठंडे पानी से मुंह धो लें