ALL HEALTH BEAUTY INTERVIEW
खुद को साबित करने के लिए साहस और आत्मविश्वास दिखाना होगा : रश्मि राय
May 7, 2019 • Tarun Kumar Nimesh



रश्मि जी आप मिसेज इंडिया यूके पैजेंट ग्रांड फाइनल की थर्ड रनरअप रही आपको कैसा लग रहा है?
मुझे बहुत अच्छा लग रहा है, अपने आप पर गर्व महसूस हो रहा है। मैं एक आईटी कंसल्टेंट हूँ, योगा और मेडिटेशन की टीचर हूँ, मेरी इंडियन फेस्टिवर्ल्ड में बहुत है और सोशल वर्क भी काफी करती हूँ। मुझे लोगों से मिलना, बात करना, उन्हें समझना, उनकी लाइफ से कुछ-कुछ सिखने को मिले इसकी जिज्ञासा और लालसा रखना अच्छा लगता है। उनकी लाइफ के उतार चढ़ाव को समझना और किसी प्रकार उनकी हेल्प कर सकूं तो मैं अपना सौभाग्य समझती हूँ। मैं किसी के लिए लाइफ में एक इम्पोर्टेंट रोल बनकर कुछ भला कर सकूं तो मुझे अपना जीवन सार्थक लगता है और मन को शांति महसूस होती है। वीनर होने के बाद लोगों से इतना प्यार मिलता है, इससे और जिम्मेदारियों का अनुभव होता है कि कुछ समाज के लिए अच्छा काम करते रहना है और आगे बढ़ना है। आज लोग मेरी बातों और उसूलों को सम्मान देते हैं और फालो करते हैं तो बहुत अच्छा लगता है, मेरी सफलता लोगों की सफलता है। मैं इसी समाज का आईना हूँ और उसका प्रतिनिधित्व कर रही हूँ। मेरी सफलता का सारा श्रेय मेरे ईश्वर रूपी माता सुशीला राय, पिता नरेन्द्र कुमार राय को जाता है, जिनके आशीर्वाद और परवरिश, भाई मयंक राय और प्रशासन राय को जाता है, जिनके सपोर्ट से मैं आज इस मुकाम पर पहुंची हूँ, मैं अपने पति रमेश मंथा और 2 साल की बेटी प्रणिका मंथा को तेह दिल से शुक्रिया करती हूँ जिनके सहयोग से मैं आज इस प्रतियोगिता की एक वीनर रही हूं। मैं इन सभी लोगों की शुक्रगुजार हूँ जिनके सपोर्ट से मैं आज सक्सेसफुल हूँ। मैं एक योद्धा की तरह इस जंग को स्वीकार किया है और उसमें उत्तीर्ण रही, ये सबका प्यार है। मैं अपने निर्देशक और मिसेज इंडिया यूके के संस्थापक के लिए आभारी हूँ - अदिति गुप्ता, प्रशांत गुप्ता और मिसेज इंडिया यूके की पूरी टीम ने मुझे ऊंची उड़ान भरने के लिए पंख दिये।


इस प्रतियोगिता में आपने किन-किन कठिनाईयों का सामना किया?
इस कम्पीटिशन को मैंने एक ब्यूटी पैजेंट की बेसिक अण्डरस्टैण्डिंग से ज्वाइन किया था, कि ये सिर्फ बाहरी सुंदरता को देखते हैं। जब मैंने इनके सैशन अटैण्ड करना शुरू किया तो मेरी कल्पना और सोच थी वो बिल्कुल बदल गयी। इनके हर सैशन वर्ल्ड क्लास और इण्डस्ट्री के बेस्ट मेंटोर आकर लेते थे। इन मेंटोर ने हमारी जिंदगी की सोच को बदल दिया और मार्गदर्शन कराया। मैं मिसेज इंडिया यूके के कुछ शानदार सत्रों से गुजरी, जैसे कि साईकोमेट्रिक तरीके आॅथेंटिक अचीवर, लीडरशिप स्किल, मेकअप स्किल, वीडियाग्राफी, फोटोग्राफी, न्यूट्रिशियन और स्किन एंड हेयर ग्रूमिंग सेशन के विभिन्न चरणों में हमारा मार्गदर्शन करने के लिए उत्कृष्ट और विश्व स्तर के गुरू थे। मैंने अपने जीवन में उनमें से कुछ को उकेरने की कोशिश की है।  इन सभी गुरूओं ने हमें जीवन में आत्मविश्वास और लोगों की सेवा करने के लिए इतनी इच्छी तरह से तैयार किया है कि हम सर्वोत्तम तरीके से कर सकें। मेकअप टिप्स के बारे में जानकर फोटोशूट हमें ग्लैमरस लुक देता है और दुनिया के शीर्ष पर होता है। टैलेंट राऊंड एक ऐसा ब्रेक था जिसके जरिये मुझे अपने छिपी हुई प्रतिभाओं को लाने में मदद मिली। आकाओं ने हमें खुद का पता लगाने और हममें से प्रत्येक में सर्वश्रेष्ठ लाने के लिए बनाया है।

हमने लाइफ की वेल्यू से अवगत कराया, हमें समाज की लिये कुछ करना है, हमारी लाइफ को एक दिशा दी, हमें ये सिखाया कि हम में वो सब कुछ है जो हम एक सुंदर समाज का निर्माण कर सकते हैं। हमें लालित्य, दूसरों के प्रति प्रेम और मेहरबांन, प्ररिस्थिति में मानसिक संतुलन ठीक रखना, सही काम करने के लिए साहस और आत्मविश्वास बनाया। सैशन में 8 घंटे विडीयो शूटिंग होती थी और आये हुये मेंटोस द्वारा हर कंसलटेंट को ऐव्यूलेट किया जाता था। हमेशा क्लास में अच्छा कोट और कांडेक्ट रखना, सभी पैजेंट सिस्टर के साथ अच्छा तालमेल रखना, हर कार्य को समय पर कम्पलीट करना और पूरी मेहनत और लग्न से करना पड़ता था। कम्पटीशन बहुत टफ था, हर लड़की में बहुत काबिलियत थी और अलग-अलग शहरों से आयी थीं। जैसे फैशन डिजाइनर, मैनेजर, बॉलीवुड एक्टर्स, कवियित्री, डॉक्टर, डेंटिंस्ट, सभी जॉब करने वाली महिलायें।
हमें एक क््वीन की तरह सोच रखने वाले की तरह तैयार किया गया, ताकि जब हम क्वीन बने तो इस समाज में किसी भी परिस्थिति को पॉजीटिव तरीके से हैण्डल कर सकें।

अंतर्राष्टÑीय सत्रों को कवर करते हुए, इस मंच की सबसे प्रेरणादायक महिलाओं ने अपनी सफल यात्रा और जिस तरह के काम कर रहे हैं, उन्हें साझा किया और अभी भी जारी है। मिसेज इंडिया यूके जीवन में मजबूत दृष्टि और उद्देश्य के साथ सौंदर्य प्रतियोगिता है। एडिनवर्ग से अपनी छोटी 2 साल की बेटी को छोडकर मेरे साथ आना मेरी लिए काफी चुनौतीपूर्ण है। जैसा कि मैं एक कामकाजी महिला हूँ, मुझे अपने काम के स्थान पर भी सर्वश्रेष्ठ होना है, इसके अलावा, मैं स्कॉटलैंड में अपने सामाजिक दायरे के साथ सक्रिय होने वाली अधिकांश सांस्कृतिक गतिविधियों का हिस्सा हूँ।
मुझे तो एडिनवर्ग से लंदन जोकि 450 मील्स (725 कि.मी.) हैं प्रत्येक  साप्ताहिक अंत में जाना होता था, मैं आॅफिस से शुक्रवार काम समाप्त करके फ्लाईट से या ट्रेन से लंदन निकल जाती थी और रविवार दे रात 11.30 तक घर पहुंचती थी। फिर सोमवार से शक्रवार काम करती थी, मैं अपने हसबैंड और बच्ची का आभार मानती हूँ जिन्होंने मेरा पूरा साथ दिया।

मैं हर सेशन के लिए एक रात पहले ही चली जाती थी, मुझे याद है कि जिस दिन मेरा फोटोशूट था, उस दिन मैं आॅफिस से जल्दी निकलकर शाम की फ्लाईट ली ताकि मैं लंदन जल्दी पहुंच जाऊं, मगर उस दिन लंदन का मौसम बहुत खराब था कि लंदन में लैंड ही नहीं हुई और मैंचेस्टर जोकि 210 मील दूर है लंदन से, वहां लैंड हुई। मैं फिर रात बस से ट्रेवल करके सुबह लंदन पहुंची और फिर फोटोशूट हुआ। ऐसे और कई परिस्थितियाँ हैं जिनको मैंने पार किया है, मगर कहते हैँ कि 'जहां चाह, वहाँ राह' तो बस मैं अपनी मंजिल पाने बढ़ती गयी और मैंने मंजिल पा ली।

इसी संदर्भ में आपकी भविष्य में क्या-क्या योजनायें हैं।
भविष्य में भी मैं सामाजिक कार्यों को करती रहूंगी। मैं आईएचआरसीसीओ इंडिया इंटरनेशनल ह्यूमन राइटस एण्ड क्राइम कंट्रोल आर्गेनाइजेश इंडिया की तरफ से आईएचआरसीसीओ अम्बेसडर फॉर स्कॉटलैंड हूँ।

आईएचआरसीसीओ स्थानीय, क्षेत्रीय, राष्टÑीय और अंतर्राष्टÑीय स्तर पर मानव अधिकारों की सार्वभौमिक घोषणा को लागू करने के लिए समर्पित एक अंतर्राष्टÑीय, न फॉर प्रॉफिट संगठन है। इसकी सदस्य दुनिया भर में व्यक्तियों, शिक्षकों और समूहों में शामिल है जो सक्रिय रूप से ज्ञान को आगे बढ़ा रहे हैं। सभी मानव जाति के लिए और मानवाधिकारों की सुरक्षा। आईएचआरसीसीओ का मिशन सत्यानिष्ठा और अहिंसा के आधार पर निर्भीक और निर्विवाद समाज के गठन के लिए सभी प्रोग्रामरों को संगठित करना, बढ़ावा देना, आगे बढ़ाने का एक तरीका होगा।

मिसेज इंडिया यूके जीतना मेरे विजन को एक वास्तविकता देगा जहां मैं समाज को वापस दे दूंगा जो मैंने इन कई वर्षों में हासिल किया है - मन की शांति और खुशी। मैंने एलर्जी जागरूकता के बारे में लगभग 400 लोगों की एक घटना को संबोधित किया है। मैं अब घरेलू हिंसा जैसे विभिन्न मुद्दों के समाधान के लिए कऌफउउड के साथ काम करूंगा। मैं उसी के बारे में जागरूकता पैदा करना और महिला सशक्तीकरण पर काम करना चाहूंगी ताकि उन्हें खुशहाल जीवन जी सकूं। एक महिला के रूप में मैं एक और महिला को आगे बढ़ाना चाहूंगी। मैं चाहता हूं कि प्रकाश की किरण और उनके जीवन में आशा हो, जो सकारात्मक बदलाव लाए। मैं योग और ध्यान वर्ग भी लेता हूं जो लोगों को उनके जीवन में सही निर्णय लेने और जीवन का जश्न मनाने में मदद करता है। मैं अपने देश की संस्कृति और मूल्यों को बढ़ावा दूंगा। मुझे एडिनबर्ग में स्कॉटलैंड के लिए भारत के महावाणिज्य दूतावास द्वारा मान्यता दी गई थी।


अभी कोई ऐसा सपना जो अधूरा है?
मेरा मानना है कि काम करते रहो और सफलता की सीढ़ी चढ़ते रहो। जीवन का अर्थ होना चाहिए। इस दुनिया में हर व्यक्ति एक उद्देश्य के साथ पैदा हुआ है, इसलिए हमें सपने देखना है और समाज और उसके लोगों को लाभ पहुंचाकर अपने सपनों को पूरा करना है। मेरा जीतने का आदर्श वाक्य है - आपके पास हमेशा अपने जीवन की रानी बनने की शक्ति थी, आपको इसका उपयोग करने के लिए चुनना होगाक मैं इस दुनिया को जीने के लिए एक बेहतर जगह बनाने में मदद करने के अपने सपनों का पीछा करना चाहता हूं। मानव जाति की मदद करने से मुझे खुश होने के लिए जो भी हो। मन की शांति हर व्यक्ति के जीवन में चमत्कार कर सकती है क्योंकि जीवन का संतोष है। और मिसेज इंडिया यूके जीतने से मुझे इन सभी कर्तव्यों का कुशल प्रदर्शन करने के लिए सम्मान, प्यार और सम्मान मिलेगा और एक महान मंच मिलेगा। मैं लोगों के जीवन में प्रकाश (आशा) का पहला रे बनना चाहती हूं जो मेरे नाम के अर्थ में न्याय लाता है - रश्मिी।

मैं अब सौंदर्य प्रतियोगिता के अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर जा रही हूं - मिसेज यूनिवर्स जहां मैं स्कॉटलैंड देश का प्रतिनिधित्व, मिसेज स्कॉटलैंड यूनिवर्स के रूप में करूंगी। इसमें लगभग 90 देशों के प्रतिनिधि अपने देशों का प्रतिनिधित्व करेंगे।


आज आप विश्वपटल पर ख्याति प्राप्त कर चुकी हैं आपको भारतीय होने का गर्व है?
मुझे भारतीय होने पर बहुत गर्व है। मुझे यह गीत याद है - 'मेरे देसी की धरती सोना उगली, उगले हीरे मोती', मेरे सभी मूल मूल्य और संस्कृति भारत से जुड़े हुए हैं। मैं भारतीय संस्कृति, परंपराओं, त्योहारों से प्यार करता हूं। भारत सबसे विविध संस्कृति वाला देश है। देश का सार उसके लोगों द्वारा है। मैंने अपना बचपन गाँवों, कस्बों में किशोर अवस्था और शहरों में पेशेवर जीवन में देखा है। मैं एक बहु-सुसंस्कृत लड़की हूं जो उत्तर, दक्षिण और मध्य भारत को कवर करते हुए भारत में कई स्थानों पर रह चुकी है।

भारतीय शिक्षा बहुत प्रतिस्पर्धात्मक है जो आपको विश्वभर के अन्य लोगों के बीच आत्मविश्वास और अद्वितीय, बौद्धिक रूप से खड़े होने में मदद करती है।

मेरी जड़ें एक छोटे से गाँव-बनकटा, देवरिया से हैं जहाँ मेरे ग्रांड पैरेंटस रहते थे। मैं नागपुर विश्वविद्यालय, पुणे से अपनी शिक्षा चंद्रपुर में लाया हूँ। मैंने हैदराबाद, बैंगलोर, मुंबई, पुणे और दिल्ली में काम किया है।


यहां तक पहुंचने में आपकी तैयारियां कड़ी रही होंगी? उन सभी समस्याओं को आपने किस प्रकार फोकस किया?
यह वास्तव में एक बहुत ही कठिन प्रतियोगिता थी क्योंकि प्रत्येक महिला अपने क्षेत्र में बौद्धिक, स्टार थी। मैं अपने आप को एक योद्धा के रूप में वर्णित करता हूं क्योंकि मैं सकारात्मक दृष्टिकोण के साथ अपने जीवन की विभिन्न परिस्थितियों को समझने और संभालने के द्वारा मुख्य स्त्री मूल्यों का बचाव करता हूं। मैं समझ गया कि ब्यूटी पेजेंट क्या है और मैंने अपने सभी कामों को पूरे दिल से करना शुरू किया और अपना 100% दिया। मुझे खुद पर विश्वास है और मैं मजबूत इच्छाशक्ति वाला व्यक्ति हूं। मेरा मुख्य मूल्य आशावाद, रचनात्मकता, अनुशासन, समर्पण और दृढ़ संकल्प हैं। मुझे लोगों से मिलना और अभिवादन करना पसंद है और उनके जीवन में सकारात्मक बदलाव लाना पसंद करेंगे। इन सभी मूल्यों के साथ मैं अपने आप पर ध्यान केंद्रित करने में सक्षम था और मेरे विश्वास हर कार्य को जीतते हैं। मुझे भी लगता है कि योग और ध्यान ने मुझे मेरी गतिविधियों पर ध्यान केंद्रित रखने में बहुत मदद की है।

मेरा मानना है कि सुंदर होना हमारे अंदर बहुत स्वाभाविक है। हमें बस उस सुंदरता को समाज में हर तरह से फैलाना है और हम कर सकते हैं। यह सौंदर्य प्रतियोगिता मेरे और मेरे आसपास के लोगों के लिए और समाज में और अधिक योगदान करने के लिए एक खुशी की महिमा लाएगा।

विदेश में रहते हुए भी आज आपको देश के लोग जानते हैं आपको ये जानकर कैसा लगता है।
मुझे यह जानकर बहुत खुशी हुई कि लोग स्टारडम तक पहुँचने के मेरे प्रयासों को पहचान रहे हैं। ब्रिटेन जैसे देश में सौंदर्य प्रतियोगिता में भाग लेना और जीतना कोई आसान काम नहीं है। आपको खुद को साबित करने के लिए वास्तव में साहस और आत्मविश्वास दिखाना होगा। मैंने अपने परिवार और दोस्तों की इच्छा शक्ति, प्यार और समर्थन के साथ ऐसा किया है। यह वास्तव में बहुत अच्छा लगता है जब आप जिन लोगों को बचपन या स्कूल, कॉलेज में जानते हैं, वे आपसे संपर्क करते हैं और आपको जीत के लिए बधाई देते हैं। वे सामाजिक कारणों से समाज की सेवा करके लक्ष्य तक पहुँचने के लिए किए गए कठिन प्रयासों को पहचानते हैं जिससे समाज को लाभ होता है।

मुझे बॉलीवुड और टॉलीवुड से संपर्क किया जा रहा है, आईफा पुरस्कार आयोजक, फैशन फोटोग्राफर, अभिनेता, निमार्ता और निर्देशक मुझसे संपर्क कर रहे हैं। मैं अपनी सफलता का जश्न मना रहा हूं और मैं बहुत खुश हूं।

  1. सामाजिक कार्य के हिस्से के रूप में मैंने एडिनबर्ग, स्कॉटलैंड में लगभग 600 लोगों को संबोधित करते हुए लोगों में एलर्जी जागरूकता पैदा करने के लिए पहल की है।
  2. केतो द्वारा पूर्णता के लिए धन जुटाने के लिए उठाया गया अभियान, जो भारत में मानव तस्करी को समाप्त करने की दिशा में काम करता है।
  3. योग और ध्यान: लोगों के जीवन में शांति, खुशी और संतोष लाना पसंद करते हैं।
  4. संयुक्त राष्ट्र शरणार्थी एजेंसी - बांग्लादेश के रोहिंग्याओं के लिए रक्षा मानसून किट। उसी के लिए वठऌउफ से बारिश पोंचो की मान्यता और उपहार प्राप्त किया। मुझे फेसबुक पर भारतीय प्रेरणादायक महिलाओं द्वारा वठऌउफ द्वारा अपनी मान्यता के लिए ए रऌए कठरढकफएर # 113 कहानी के रूप में पहचाना जाता है। सीरियाई शरणार्थियों के लिए शीतकालीन किट प्रदान की।
  5. साइट सेवर्स के माध्यम से तंजानिया के 133 लोगों और जाम्बिया के 66 लोगों को एंटीबायोटिक प्रदान की गई।
  6. मैं विभिन्न माध्यमों से उदार दान भी करता हूं जिनमें पर्यावरण शामिल है।
  7. सेंट ज्यूड्स चिल्ड्रन कैंसर रिसर्च के लिए फेसबुक के माध्यम से धन जुटाया।
  8. अक्षय पात्र फाउंडेशन, भारत के माध्यम से 5 बच्चों के भोजन की जिम्मेदारी ली।


आप आने वाली पीढ़ी को कोई ऐसा संदेश देना चाहेंगी जिनसे वह प्रेरित हो सके।
मैं अपने भविष्य के उदारहण के बारे में कहना चाहूंगा कि अपने उच्च परिश्रम और प्रयास से अपने सपनों को पूरा करने और प्राप्त करने के लिए ड्रीम हाई एंड चेस। अगली पीढ़ी स्मार्ट, बौद्धिक, तेज और महत्वाकांक्षी है। उनके सपनों को प्राप्त करने और अपने आसपास सकारात्मक और अच्छी चीजों को करके एक मजबूत समाज का निर्माण करने के लिए उन्हें अपने विचारों और प्रयासों को सही दिशा में लगाने के लिए एकमात्र मार्गदर्शन की आवश्यकता होती है। प्रत्येक बच्चा विशेष है और समाज के लाभ के लिए उनके सुंदर और रचनात्मक दिमाग का प्रसार होना चाहिए।
मुझे दिये गये शीर्षक और पुरस्कार इस प्रकार हैं :-

1. मिसेज स्कॉटलैंड यूनिवर्स इंटरनेशनल
2. मिसेज यूके क्लासिक - थर्ड रनरअप नेशनल में
3. बेस्ट नेशनल कॉस्टयूम 2019 - गोल्ड सबटाइटल
4. मिसेज पापूलर 2019 - सिल्वर सबटाइटल
5. मिसेज इंडिया यूके फाइनेलिस्ट 2019.